भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तेरे लिए मेरी प्रिये / ज़ाक प्रेवेर" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो (तेरे लिए मेरी प्रिये/ ज़ाक प्रेवेर का नाम बदलकर तेरे लिए मेरी प्रिये / ज़ाक प्रेवेर कर दिया गया है)
 
(इसी सदस्य द्वारा किये गये बीच के 2 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
|रचनाकार=ज़ाक प्रेवेर
+
|रचनाकार=ज़ाक प्रेवेर  
 +
|अनुवादक=हेमन्त जोशी
 +
|संग्रह=
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 
+
 
<poem>
 
<poem>
 
मैं गया पंछी-बाज़ार
 
मैं गया पंछी-बाज़ार
पंक्ति 26: पंक्ति 27:
 
मगर तुझे पाया नहीं
 
मगर तुझे पाया नहीं
 
मेरी प्रिये।
 
मेरी प्रिये।
</poem>
 
  
 
'''मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी
 
'''मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी
 +
</poem>

09:09, 16 सितम्बर 2020 के समय का अवतरण

मैं गया पंछी-बाज़ार
और ख़रीदे पंछी मैंने
तेरे लिए
मेरी प्रिये

मैं गया फूल-बाज़ार
और ख़रीदे मैंने फूल
तेरे लिए
मेरी प्रिये

मैं गया लोहा-बाज़ार
और मैंने ख़रीदीं जंज़ीरें
भारी-भारी जंज़ीरें
तेरे लिए
मेरी प्रिये

फिर मैं गया ग़ुलामों के बाज़ार में
और तुझे खोजा
मगर तुझे पाया नहीं
मेरी प्रिये।

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी