भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

दिवाली / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:33, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आई दिवाली लाई खिलौने,
रँग बिरँगे लम्बे बौने।
लिपे पुते घर लगे सुहाने,
चलते हैं हम दीप जलाने।
चीजों की भरमार बड़ी है,
सड़क समूची पटी पड़ी है।
लगा दिवाली का है मेला,
हटा अँधेरा फटा उजाला।
दूर दूर तक दीप जले हैं,
दिखते कितने भव्य भले हैं।
बल्ब सजे घर घर इतने हैं,
पेड़ों में पत्ते जितने हैं।
लड़के बने सिपाही बाँके,
शोर बढ़ाते छुड़ा पटाखे।
सीमा पर दुश्मन आयेगा,
इनसे पार नहीं पायेगा।
गीत खुशी के गाते हैं हम,
प्रभु से यही मनाते हैं हम।
चाहे जैसी निशि हो काली,
ज्योतित कर दे उसे दिवाली।