भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

नए गीतकवि से / राम सेंगर

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:43, 23 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राम सेंगर |अनुवादक= |संग्रह=रेत की...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गीत या नवगीत
जो भी लिख,
आदमी के पक्ष में ही दिख !

विधा कोई
है नहीं छोटी
कहन का अपना स्वचेतस रूप ।
कथ्य, केवल
कथ्य होता है
रम्य हो या रँग से विद्रूप ।
शिल्पविधि
है इसी की चेरी,
हेतु जिसमें खुलें न्यूनाधिक !

रचे में बोले न
यदि मिट्टी,
तुष्टि के सम्मोह की कर जाँच ।
कुछ नहीं होता
करिश्मों से,
हो न जब तक भावना में आँच ।
स्वयँ से
बाहर निकल कर देख
दीन-दुनिया से न जाए छिक !

गा-बजा कर
आत्मश्लाघा में,
नए के सँघर्ष से मत भाग ।
तोड़ परतें
जगा
अर्जित कर,
लोकमानस से सृजन की आग ।
ज़िन्दगी की
टूट का प्रज्ञान,
सम्भ्रमों पर ही न जाए टिक !

गीत या नवगीत
जो भी लिख,
आदमी के पक्ष में ही दिख !