भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पुरुष का अभिमान / ईगर सीद / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:42, 22 अक्टूबर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्राचीनकाल से ही पुरुष ख़ुद को दिखाता है बुद्धिमान
होता है उसमें अत्यन्त विशाल अजगर-सा अभिमान ।
गोल घेरे बनाकर, ताक़त दिखाकर, बनता है सत्ताधीश
परिवार की ख़ुशी का जैसे सिर्फ़ उसे ही रहता है भान ।

ख़ुद को मानता है वह आदर्श परिवार के लिए
बढ़ती चली जाती हैं उसमें परतें अभिमान की ।
पर पुरुष जो सोचता है साहसी, दिलेर ढंग से
उसमें होती नहीं, कोई ज़िद, दिखावे की, शान की। 

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी में पढ़िए
                 Игорь Сид
                 Корень удá

Многомудрый и древний, как корень удá,
у любого мужчины внутри есть удав.
Его кольца несут волю к власти
и скрепляют семейное счастье.

Тот, кто мыслит себя образцовым самцом,
нарастает внутри как бы лишним кольцом.
А кто мыслит особенно бравым,
обзаводится внешним удавом.