भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"पूरब दिशा / असद ज़ैदी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=असद ज़ैदी |संग्रह=सामान की तलाश / असद ज़ैदी }} एक दिन इस द...)
 
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
|संग्रह=सामान की तलाश / असद ज़ैदी
 
|संग्रह=सामान की तलाश / असद ज़ैदी
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 +
<poem>
 
एक दिन इस दुनिया से उर्दू बोलने वालों का
 
एक दिन इस दुनिया से उर्दू बोलने वालों का
 
 
सफ़ाया हो जाएगा
 
सफ़ाया हो जाएगा
 
 
रह जाएगी बस हमारी प्यारी हिंदी भाषा
 
रह जाएगी बस हमारी प्यारी हिंदी भाषा
 
 
दफ़ना देंगे फिर हम अपनी यह कुल्हाड़ी
 
दफ़ना देंगे फिर हम अपनी यह कुल्हाड़ी
 
  
 
एक दिन ख़त्म हो जाएंगी
 
एक दिन ख़त्म हो जाएंगी
 
 
पश्चिम की तरफ़ मुँह करने वाली क़ौमें
 
पश्चिम की तरफ़ मुँह करने वाली क़ौमें
 
 
हर तरफ़ होगा पूरब की रीत का बोलबाला
 
हर तरफ़ होगा पूरब की रीत का बोलबाला
 
  
 
एक दिन पश्चिम दिशा ही ख़त्म हो जाएगी
 
एक दिन पश्चिम दिशा ही ख़त्म हो जाएगी
 
 
अकेली बच जाएगी बस हमारी पूरब दिशा।
 
अकेली बच जाएगी बस हमारी पूरब दिशा।
 +
</poem>

19:23, 8 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण

एक दिन इस दुनिया से उर्दू बोलने वालों का
सफ़ाया हो जाएगा
रह जाएगी बस हमारी प्यारी हिंदी भाषा
दफ़ना देंगे फिर हम अपनी यह कुल्हाड़ी

एक दिन ख़त्म हो जाएंगी
पश्चिम की तरफ़ मुँह करने वाली क़ौमें
हर तरफ़ होगा पूरब की रीत का बोलबाला

एक दिन पश्चिम दिशा ही ख़त्म हो जाएगी
अकेली बच जाएगी बस हमारी पूरब दिशा।