भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"प्राण-पाहुने / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
  
  
 
+
29
 
+
'''प्राण-पाहुने'''
 +
'''रहें सदा ही साथ'''
 +
'''हाथों में हाथ।'''
 +
30
 +
जन्म-जन्म से
 +
जब गूँथा है प्यार
 +
महका द्वार।
 +
31
 +
साँझ का गान
 +
छूकरके अम्बर
 +
सिन्धु में डूबा।
 +
32
 +
एकाकी मन
 +
भीड़ भरा नगर
 +
जाएँ किधर !
 +
33
 +
पाएँगे कैसे
 +
हम तेरी खबर
 +
तम है घना।
 +
34
 +
आ भी तो जाओ
 +
सूने इस पथ में
 +
दीप जलाओ।
 +
35
 +
गटक लिया
 +
खुशबू से सिंचित।
 +
पूरा वसन्त।                     
 +
36
 +
'''आँखों से पिया'''
 +
रुपहला वसन्त
 +
मन न भरा।                     
 +
37
 +
ले लूँ बलाएँ
 +
सारी की सारी जो भी
 +
द्वारे पे आएँ।
 +
38
 +
ठिठका चाँद
 +
झाँका जो खिड़की से
 +
दूजा भी चाँद।
 +
39
 +
होगी जो भोर
 +
और भी निखरेगा
 +
मेरा ये चाँद।
 +
40
 +
नभ का चन्दा
 +
भोर में लगे फीका,
 +
मेरा ये नीका।                                               
 +
41
 +
सात पर्दों में
 +
तुम को यों छिपालूँ
 +
देखूँ मैं तुम्हें।
 +
42
 +
भाल  तुम्हारा
 +
मन में झिलमिल
 +
ईद का चाँद ।
 +
43
 +
नेह का जल
 +
जीवन का सम्बल
 +
साथ तुम्हारा।
  
 
</poem>
 
</poem>

17:01, 6 मई 2019 का अवतरण



29
प्राण-पाहुने
रहें सदा ही साथ
हाथों में हाथ।
30
जन्म-जन्म से
जब गूँथा है प्यार
महका द्वार।
31
साँझ का गान
छूकरके अम्बर
सिन्धु में डूबा।
32
एकाकी मन
भीड़ भरा नगर
जाएँ किधर !
33
पाएँगे कैसे
हम तेरी खबर
तम है घना।
34
आ भी तो जाओ
सूने इस पथ में
दीप जलाओ।
35
गटक लिया
खुशबू से सिंचित।
पूरा वसन्त।
36
आँखों से पिया
रुपहला वसन्त
मन न भरा।
37
ले लूँ बलाएँ
सारी की सारी जो भी
द्वारे पे आएँ।
38
ठिठका चाँद
झाँका जो खिड़की से
दूजा भी चाँद।
39
होगी जो भोर
और भी निखरेगा
मेरा ये चाँद।
40
नभ का चन्दा
भोर में लगे फीका,
मेरा ये नीका।
41
सात पर्दों में
तुम को यों छिपालूँ
देखूँ मैं तुम्हें।
42
भाल तुम्हारा
मन में झिलमिल
ईद का चाँद ।
43
नेह का जल
जीवन का सम्बल
साथ तुम्हारा।