भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

फूल / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:25, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूल उड़े या आँधी आवे,
जल बरसे या धूप सतावे।
या डाली से तोड़ा जाऊँ,
मसला और मरोड़ा जाऊँ।
कभी न भय खाऊँगा मन में,
मैल न लाऊँगा जीवन में।
मरते दम तक मुस्कऊँगा,
महक मनोहर फैलाऊँगा।