भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बच्चों का ख़ून / इराक्ली ककाबाद्ज़े / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:34, 18 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इराक्ली ककाबाद्ज़े |अनुवादक=राज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सैनिकों ने
मार्च किया
मेरे घर के सामने से, और

उन्हें देखते हुए
एक ख़याल ने आ घेरा मुझे –

क्या हो सकती है क़ीमत इस दुनिया में
इन बच्चों के ख़ून की ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र

लीजिए, अब इसी कविता का जार्जियाई भाषा से अँग्रेज़ी अनुवाद पढ़िए
              Irakli Kakabadze

Soldiers marched
Past my house, and

As I watched them,
a thought obsessed me —

What in this world could be worth
The blood of these children?!

Translated from Georgian by Mary Childs