भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बातिन से सदफ़ के दुर-ए-नायाब खुलेंगे / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:06, 24 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बातिन से सदफ़ के दुर-ए-नायाब खुलेंगे
लेकिन ये मनाज़िर भी तह-ए-आब खुलेंगे

दीवार नहीं पर्दा-ए-फ़न बन्द-ए-क़बा है
इक जुम्बिश-ए-अंगुश्त कि महताब खुलेंगे

कुछ नोक-पलक और तहय्युर की सँवर जाए
हर जुम्बिश-ए-मिज़्गाँ में नए बाब खुलेंगे

आईना-दर-आईना खुलेगा चमन-ए-अक्स
ताबीर के दर ख़्वाब पस-ए-ख़्वाब खुलेंगे

हो जाएँगे जब ग़र्क़ सदाओं के सफ़ीने
सुनते हैं ख़मोशी के ये गिर्दाब खुलेंगे

क्या उन से समाअत भी गुज़र पाएगी ऐ 'साज़'
वो दर जो तह-ए-जुम्बिश-ए-मिज़राब खुलेंगे