भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"बीजूका : एक अनुभूति / सांवर दइया" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: <poem>सिर नहीं है सिर की जगह औंधी रखी हंडिया देह - लाठी का टुकड़ा हाथों…)
 
पंक्ति 10: पंक्ति 10:
 
एक पत्ता भी चर ले कोई
 
एक पत्ता भी चर ले कोई
 
तुम्हारे होते !
 
तुम्हारे होते !
 +
 +
'''अनुवाद : नीरज दइया'''
 +
 
</poem>
 
</poem>

09:02, 30 जून 2010 का अवतरण

सिर नहीं
है सिर की जगह
औंधी रखी हंडिया
देह -
लाठी का टुकड़ा
हाथों की जगह पतले डंडे
वस्त्र नहीं है ख़ाकी
फिर भी
क्या मजाल किसी की
एक पत्ता भी चर ले कोई
तुम्हारे होते !

अनुवाद : नीरज दइया