भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बुधराम यादव / परिचय

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:18, 24 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKRachnakaarParichay |रचनाकार=बुधराम यादव }} <poem> नाम - बुधराम यादव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम - बुधराम यादव

पिता - श्री भोंदू राम यादव

जन्मतिथि - ग्राम खैरवार खुर्द तहसील लोरमी , जिला मुक्यालय बिलासपुर से
80 किलोमीटर दूर.

शैक्षणिक योग्यता -सिविल अभियांत्रिकी में पत्रोपाधि अभियंता.
साहित्यिक अभिरुचि - छत्तीसगढ़ और हिन्दी में गीत, कविता, लेखा
साहित्यिक गतिविधियाँ - वर्ष 1964 में उच्चतर माध्यमिक शिक्षा का विद्यार्थी था तब से छत्तीसगढ़ी एवम हिन्दी में गीत एवम कविता लेखन में गहन अभिरुचि हो चुकी थी संयोग से विविध काव्य संग्रहों, पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही . साथ ही अनेक मंचों तथा आकाशवाणी के माध्यम से प्रसारण के अवसर भी उपलब्ध होते रहे .

१९६४ में प्रयास प्रकाशन बिलासपुर से संस्थापक सदस्य के रूप में सम्बद्ध रहे. यहाँ से प्रकाशित प्रथम छत्तीसगढ़ी गीत संग्रह "सुघ्घर गीत" में प्रथम रचना प्रकाशित हुई.

१९६५-६६ में हिन्दी के राष्ट्रीय स्तर काव्य संग्रह "मैं भारत हूँ" , "खौलता खून" , एवम प्रदेश स्तर के "छत्तीसगढ़ के नए हस्ताक्षर", "नए गीत", "थिरकते बोल" , "भोजली" , "छत्तीसगढ़ी सेवक", "लोकाक्षर" , भिलाई से प्रकाशित गीत संग्रह "जागरण गीत" के अतिरिक्त कई अवसरों पर दैनिक बसेरा , संकेत राजनांदगांव , दैनिक महाकोशल, देशबंधु, बिलासपुर टाईम्स , नवभारत, आदि पत्र पत्रिकाओं के साथ अन्य अनेक काव्य संग्रहों में रचनाएँ प्रकाशित होती रही.

की महती कृपा से १९७२ से कवि सम्मेलनों के विविध आयोजनों मंचों के माध्यम से देश-प्रदेश के लब्ध प्रतिष्ठ साहित्यकारों के सानिध्य में रचनाएँ प्रस्तुत करने के अवसर मिले.

प्रथम बार आकाशवाणी रायपुर से १९७६ में सस्वर गीतों का प्रसारण हुआ जो १९८७ तक अनेक कार्यक्रमों के माध्यम से निरंतर रहा.

१९८१ में आकाशवाणी रायपुर से "कवि कंठ" कार्यक्रम का प्रथम रचनाकर प्रस्तोता रहा.

वर्ष २००१ में छत्तीसगढ़ी गीत एवम कविता का प्रथम संग्रह "अंचरा के मया" प्रकाशित हुआ.

प्रकाशनाधीन छत्तीसगढ़ी काव्य संग्रह- "मोर गाँव कहाँ सोरियावत हंव"
"सुखवन्तिन" - छत्तीसगढ़ी लोक कथा
"तेरे लिए मै गाऊंगा गीत जिंदगी"- हिन्दी काव्य संग्रह

समाज के एक सजग प्रहरी की तरह हिन्दी एवम छत्तीसगढ़ी की रचनाओं के माध्यम से अलख जाने की मंशा संजोये सामाजिक जीवन के श्रेष्ठ मूल्यों के संरक्षण, लोक संस्कृति, लोक मर्यादा और आंचलिक एवम राष्ट्रीय सदभावनाओं के संवर्धन की कामनाओं को अपनी नियति से जोड़े रखने का सतत अभिलाषी रहा.

आपसी स्नेह, सामाजिक समरसता के प्रबल समर्थन में कई संदेश जन रचनाओं का सार्थक सृजन हो सका है .

संभवतः इन्ही वजह से इस अदने से रचनाकार को कई साहित्य एवम कला से जुडे संस्थाओं ने अपना स्नेह और सम्मान से नवाजा है ::-. यथा.
१. तांदुला तरंग कला समिति बालोद, जिला दुर्ग
२. पैरी साहित्य समिति गरियाबंद , जिला रायपुर
३. हिन्दी साहित्य समिति मुंगेली , जिला बिलासपुर
४. समन्वय साहित्य परिवार , बिलासपुर
५. प्रांतीय यादव महासभा जिला इकाई बिलासपुर
६. बिलासा कला मंच बिलासपुर "साहित्य सम्मान"

सम्प्रति - सेवानिवृत्त उप अभियंता, जल संसाधन विभाग छत्तीसगढ़ शासन, अध्यक्ष प्रांतीय छत्तीसगढ़ी साहित्य समिति की जिला इकाई बिलासपुर , अध्यक्ष चंदेला नगर विकास समिति बिलासपुर

वर्तमान पता - एम.आई.जी. -ए/8 चंदेला नगर, रिंग रोड क्र 2 बिलासपुर मोबाइल नंबर-09755141676