भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

बोलती निगाहें / पूनम गुजरानी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:49, 9 दिसम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पूनम गुजरानी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शब्दों ने ओढी खामोशी
बोलेमेरी निगाहें।

मेहंदी, कंगना, कजरा, गजरा
फूल तुम्हें छूने को आतुर
अल्हा, कजरी, फाग सभी के
शरमीले से लगते है सुर
नजर, नजर से कहे
नजारे हम तो कुछ न चाहे
शब्दों ने ओढी खामोशी
बोले मेरी निगाहें।
तुम्हे देखकर भोर सुहाए
सांझ हुई सपनीली
जन्मों के प्यासे प्राणों ने
जी भर मदिरा पी ली
मनुहारों का मौसम आया
खुली जो तेरी बाहें
शब्दों ने ओढी खामोशी
बोले मेरी निगाहें।
स्नेह बांधता है बंधन
सौ जन्मों तक चलता है
अरमानों की कुंज गली में
हर सपना फलता है
दो अनजान मुसाफिर की फिर
मिल जाती है राहें
शब्दों ने ओढी खामोशी
बोले मेरी निगाहें।