भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं कुछ नहीं करूंगा / निकलाय रुब्त्सोफ़ / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:07, 30 नवम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निकलाय रुब्त्सोफ़ |अनुवादक=अनिल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं कुछ नहीं करूँगा
समय बीत जाएगा
और

और बस, क्या कहूँ मैं
विवाह हो जाएगा तुम्हारा
और तुम अपने पति के लिए
रोज़ पकाओगी भोजन

तुम्हारा
गर्व करेगा तुम पर
तुम्हें अपनी पलकों पर बैठाएगा
कभी तुम्हें टैक्सी में घुमाएगा
और घूमेगा तुम्हारे आस-पास
जैसे धरती घूम रही है धुरी पर

मैं तुम्हारे बीच नहीं आऊँगा
होश में रहूँगा और दाढ़ी बनाऊँगा
घर अपने हमेशा दूध-दही ले जाऊँगा
ताकि दादा जी का पेट ठीक रहे

मैं कुछ नहीं करूँगा
तुम्हारी शान्ति भंग नहीं करूँगा
उजली रातों में जाऊँगा मिलने
हो सकता है
अपनी किसी नई प्रेमिका से

देको न, देखो
वहाँ उस कोने में
अपनी पीली आँखों को सिकोड़कर
मेरी ओर ताक रही है
तुम्हारी सहेली
उदासी के साथ

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय