भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रघुवर चरित अमित सुक दायक / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:15, 10 जून 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संत जूड़ीराम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रघुवर चरित अमित सुक दायक सोई मेरे मन भाया है।
बहुतक जतन करे ई तन में विन सतसंग न पाया है।
सब्द सनेही सतगुरु मेरा धुन पर चित्त चड़ाया है।
सेस महेश गनेश जपत सोई नर-नारन में छाया है।
वेद पुरान भागवत गीता विमल-विमल जश गाया है।
सब्द सांक परतीत मान मन दृष्ट परे सो माया है।
ग्यान द्रष्ट आ द्रिष्ट अगोचर पूरन ब्रह्म कहाया है।
निरभें नाम जपो रघुवर को दुबदा दूर भगाया है।
जूड़ीराम आनन्द मगन उर मिटत दुख सुख छाया है।