भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जी हाँ , लिख रहा हूँ / नागार्जुन

6 bytes removed, 06:38, 25 अक्टूबर 2009
जी हाँ, लिख रहा हूँ ...
बहुत कुछ ! बहोत बहोत !!
ढ़ेर ढ़ेर ढेर ढेर सा लिख रहा हूँ !
मगर , आप उसे पढ़ नहीं
पाओगे ... देख नहीं सकोगे
आप भी मैं कहॉ पढ़ पाता हूँ
नियोन-राड पर उभरती पंक्तियों की
तरह वो अगले कि ही क्षण
गुम हो जाती हैं
चेतना के 'की-बोर्ड' पर वो बस
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
50,141
edits