भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"वीर प्रतिज्ञा / श्रीनाथ सिंह" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 18: पंक्ति 18:
 
सौ आफतें हों सामने,
 
सौ आफतें हों सामने,
 
उजड़ा भले ही गेह हो।
 
उजड़ा भले ही गेह हो।
हो देश की जय ,भय नहीं,
+
हो देश की जय, भय नहीं,
 
हमको जरा है क्लेश का।
 
हमको जरा है क्लेश का।
 
बाजी लगा कर प्राण की,
 
बाजी लगा कर प्राण की,
 
हम साथ देंगे देश का।
 
हम साथ देंगे देश का।
 
</poem>
 
</poem>

16:31, 5 अप्रैल 2015 के समय का अवतरण

चाह कुछ सुख की नहीं,
दुःख की नहीं परवाह है।
प्रिय देश के कल्याण की,
हमने गहि अब राह है।
हों क्यों न अंगारे बिछे,
मुँह जरा मोंड़ेगे नहीं।
मिट जायेंगे पर देश का,
अभिमान छोड़ेंगे नहीं।
खाली भले ही पेट हो,
नंगी भले ही देह हो।
सौ आफतें हों सामने,
उजड़ा भले ही गेह हो।
हो देश की जय, भय नहीं,
हमको जरा है क्लेश का।
बाजी लगा कर प्राण की,
हम साथ देंगे देश का।