भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"शब्द : दो भाव छवियाँ / सुरेश सलिल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुरेश सलिल |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKav...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
(इसी सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
”’1
+
  
 
शब्द जो नहीं कहते  
 
शब्द जो नहीं कहते  
पंक्ति 16: पंक्ति 16:
 
निहत्थे हो जाते हैं शब्द
 
निहत्थे हो जाते हैं शब्द
  
”’२”’
+
  
 
जब कविता रची जा रही थी
 
जब कविता रची जा रही थी

04:23, 14 अक्टूबर 2020 के समय का अवतरण



शब्द जो नहीं कहते
( बचते हैं किसी मारीच आशय से )
वही, प्राय: वही,
   सुन लिया जाता है
और बेचारगी के साथ
निहत्थे हो जाते हैं शब्द



जब कविता रची जा रही थी
(बेहतर हो शायद यह कहना
कि जब रच रही थी स्वयं को कविता)
भावावेग में
  स्वाभाविक रूप से
कण्ठ से या क़लम से
फूटे नहीं तुम

बाद में स्थानापन्न बने
लय और यति की ज़रूरतों के चलते

तब फिर हठ कैसी
स्वीकार करो स्थानापन्न होने की नियति
बेहतर शब्द जब तक
तुम्हारी जगह न ले ले ।!