भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-31 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:01, 1 अप्रैल 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अच्युतानन्द चौधरी 'लाल' |अनुवादक= |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग़ज़ल

की बतैहौं कि की भॅ गेलै
हमरोॅ हालत अजब भॅ गेलै।
आमना सामना जे भॅ लै
हमरोॅ दिल आइना अ गेलै।।
एक छै रूप का प्यार छै
एक खुदा एक पिया भॅ गेलै।।
खूबसुरती तॅ आंखी में छै
चीज़ में रूप कुछ नै भेलै।
जब कि अइलै बलम सामने
हमरोॅ नीचें नजर भॅ गेलै।।
हमरा दिल मंे भेलै जब सें प्यार
मीठा मीठा दरद भॅ गेलै।।