भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सम्बन्ध / रुस्तम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:00, 26 नवम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रुस्तम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poe...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
सम्बन्ध जैसा कुछ-कुछ रंग और दर्पण में भी था। लेकिन
उसे सम्बन्ध कहना उसे एक रंग में रंग देना था — रंग
जो निश्चित ही नीला था। रंग और दर्पण के विषय में
सोचना सिर्फ़ नीले के विषय में सोचना था। किसी भी
दर्पण में एक अपार नीला होता था, जो दर्पण की काया
में कुछ इस तरह से रहता था कि जब मैं नीला देखता था
मुझे केवल दर्पण नज़र आता था।