भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सवाल-ए-सुब्ह-ए-चमन ज़ुल्मत-ए-ख़िज़ाँ से उठा / सहबा अख़्तर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:31, 29 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सहबा अख़्तर |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem> सव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सवाल-ए-सुब्ह-ए-चमन ज़ुल्मत-ए-ख़िज़ाँ से उठा
ये नफ़ा कम तो नहीं है जो इस ज़ियाँ से उठा

सफ़ीना-रानी-ए-महताब देखता कोई
कि इक तलातुम-ए-ज़ौ जू-ए-कहकशाँ से उठा

ग़ुबार-ए-माह कि मक़्सूम था ख़लाओं का
बिखर गया तो तिरे संग-ए-आस्ताँ से उठा

ग़म-ए-ज़माना तिरे नाज़ क्या उठाऊँगा
कि नाज़-ए-दोस्त भी कम मुझ से सरगिराँ से उठा

मिरे हबीब बहुत कम-सबात है दुनिया
मिरे हबीब बस अब हाथ इम्तिहाँ से उठा

बयान-ए-लग्ज़िश-ए-आदम न कर कि वो फ़ित्ना
मिरी ज़मीं से नहीं तेरे आसमाँ से उठा

कहाँ चले हो लिए नक़्द-ए-जान-ओ-दिल ‘सहबा’
कि कारोबार-ए-वफ़ा शहर-ए-दिल-बराँ से उठा