भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम उखड़े थे अपनी ज़मीन से / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:36, 24 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम उखड़े थे अपनी ज़मीन से,
मिले थे किसी आकाश में,
जीते रहे बरसो किसी सुनसान द्वीप पर बेआवाज़
टहनियों पर लटकते रहे अबाबीलो की तरह,
रेत पर फिसलते रहे सीप की तरह और लहरो की तरह पछाड़े खाते रहे,
सब गया बेकार,
कि हमारी दुनिया ना कभी बननी थी हमारे मुताबिक
ना बन पाएगी अब कभी,
वैसी जैसी कि हमने चाही थी और
हम वो होना चाहते थे जो हम नहीं थे
हम वो पाना चाहते थे जिसके हक़दार नहीं थे हम
हमने अपने अपने दामन बड़े कर लिए,
चादर हवा में उड़ी और चिथड़े-चिथड़े होकर नुचे पंखों की तरह फैल गई...
दिगन्त में ।