भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर इक धड़कन अजब आहट / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:11, 24 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर इक धड़कन अजब आहट
परिन्दों जैसी घबराहट

मिरे लहजे में शीरीनी
मिरी आँखों में कड़वाहट

मिरी पहचान है शायद
मिरे हिस्से की उकताहट

सिमटता शेर हैअत में
बदन की सी ये गदराहट

मिस्र मैं फ़न मिरा ज़िद पर
ये बालक हट वो तिर्याहट

उजाले डस न लें इस को
बचा रक्खो ये धुन्दलाहट

लहू की सीढ़ियों पर है
कोई बढ़ती हुई आहट