भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तुम्हारा चेहरा है मातमी / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:44, 13 फ़रवरी 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारा चेहरा है मातमी
मुँह को घेरे हुए है एक स्याह लकीर
आँखें ढँकी हुई
तुम मना रही हो मातम
लेकिन अपने मृत बेटे का नहीं
तुम मना रही हो मातम
अपने अकेलेपन का

तभी तो
सभी अकेलों की आँखें मुड़ गई हैं
ओ अकेली ! तुम्हारी ओर

तुम्हारे अकेलेपन का दर्द
है हमारी अकेलेपन की ख़्वाहिश ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना