भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

श्यामली के श्याम वर्ण / अनुराधा पाण्डेय

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:52, 7 मार्च 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुराधा पाण्डेय |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्यामली के श्याम वर्ण, कुंडल बिराजै कर्ण, तनपर पीत वस्त्र लगे द्युतिमान हैं।
छिटके घटा से केस, नासिका सँवारे बेस, मद से छकी की देखो! मीठी मुसकान है।
कज्जल नयन कारे, अधर भी अरुणारे, योगी यति मुनि सब, करते बखान हैं।
चंचल चपल नार, यौवन युगल भार, ख़ुद में निमग्न देखो, खुद का न भान है।