भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अंतहीण अंधारो / अजय कुमार सोनी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:50, 8 जून 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिवलां री जोत सूं
कर सूं
समूळो घर सैंचनण
कियां पण करूंला
मनड़ै में उजास
जठै पसरयोड़ो है
अंतहीण अंधारो
थारै ई ताण !