भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

निसरमी भूख / संजय पुरोहित

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:32, 26 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संजय पुरोहित |अनुवादक= |संग्रह=था...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूख घालै घेरो
गरीब रै आंगणै
नीं करै खंखारो
नीं बजावै सांकळ
पण छोडै नीं लारो
आय धमकै
आये दिन, हरमेस
ऊंच चिंतावां रो भारियो
बिन्या कोई दिन टाळ्यां।

दिनूगै-सिंझ्या
भूखै पेट उडीकता
मा-बापू
टाबर-टीकर
किण नै कैवै
अर कैवै ई कांईं
जुलमण भूख
थकै, नीं मरै
भखै गरीबड़ां रा डील
सुरसा ज्यूं बधती
इण डाकण वरणीं सूं
छूटै नीं लारो
आ सोचतो डोकरो
निकळै घर सूं बारै
चूंचां रै चुग्गै सारू
मन में विचारतो
कित्तो भलो होंवतो
जे जग में नीं हांेवती
आ निसरमी भूख।