भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

एकलव्य से संवाद-3 / अनुज लुगुन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:50, 10 फ़रवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुज लुगुन |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem> घुप्प अमावस के स…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घुप्प अमावस के सागर में
ओस से घुलते मचान के नीचे
रक्सा, डायन और चुड़ैलों के क़िस्सों के साथ
खेत की रखवाली करते काण्डे हड़म
तुमने जंगल की नीखता को झंकरित करते नुगुरों के
संगीत की अचानक उलाहना को
पहचान लिया था और
चर्र-चर्र-चर्र की समूह ध्वनि की
दिशा में कान लगाकर
अंधेरे को चीरता
अनुमान का सटीक तीर छोड़ा था

और सागर में अति लघु भूखण्ड की तरह
सनई की रोशनी में
तुमने ढूँढ़ निकाला था
अपने ही तीर को
जो बरहे की छाती में जा धँसा था ।

तब भी तुम्हारे हाथों छुटा तीर
ऐसे ही तना था ।

ऐसा ही हुनर था
जब डुम्बारी बुरू से<ref>बिरसा मुण्डा का युद्धस्थल</ref>
सैकड़ों तीरों ने आग उगली थी
और हाड़-माँस का छरहरा बदन बिरसा
अपने अद्भुत हुनर से
भगवान कहलाया ।

ऐसा ही हुनर था
जब मुण्डाओं ने
बुरू इरगी के पहाड़ पर<ref>बुरू इरगी, सिमडेगा ज़िले में जहाँ मुण्डा स्वशासन के नाम पर आज भी जतरा मनाते हैं</ref>
अपने स्वशासन का झंडा लहराया था ।

शब्दार्थ
<references/>