भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अमलताश के फूल खिले / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:38, 12 अप्रैल 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरोजिनी कुलश्रेष्ठ |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखो बेटा फूल खिले
अमलताश के फूल खिले

उठकर तुम खिड़की से देखो
लगते कैसे भले-भले

झुग्गों से लटके डालों पर
सौ सौ हार टंगे डालों पर

सूरज निकला पूरब में तो
चमके किरणों में ये फूल

पाँच पंखुड़ी वाले फूल
पीले-पीले सुन्दर फूल

डालों से लटके-लटके से
कैसी शोभा देते फूल

जागो जागो चलकर देखो
कैसे प्यारे लगते फूल