भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

बच्चों की दुआ / इक़बाल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:41, 6 जून 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इक़बाल }} लब पे' आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी, ज़िन्दगी श...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लब पे' आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी,

ज़िन्दगी शमा की सूरत हो ख़ुदाया मेरी ।

दूर दुनिया का मेरे दम से अंधेरा हो जाए

हर जगह मेरे चमकने से उजाला हो जाए ।

हो मेरे दम से यूँ ही वतन की ज़ीनत,

जिस तरह फूल से होती है चमन की ज़ीनत ।

ज़िन्दगी हो मेरी परवाने की सूरत या रब !

इल्म की शमा से हो मुझ को मुहब्बत या रब !

हो मेरा काम ग़रीबों की हिमायत करना,

दर्दमंदों से, ज़ईफ़ों से मुहब्बत करना ।

मेरे अल्लाह, बुराई से बचाना मुझ को,

नेक जो राह हो, उस रह पे' चलाना मुझ को ।


शब्दार्थ :

शमा की सूरत=दीपक की भाँति; ज़ीनत=शोभा; इल्म की शमा=ज्ञान का दीपक; ज़ईफ़ों=बूढ़े लोगों