भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

प्यार कर पाऊँ मैं अब ऐसा नहीं हो पाउँगा / गौरव त्रिवेदी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:31, 10 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव त्रिवेदी |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यार कर पाऊँ मैं अब ऐसा नहीं हो पाउँगा,
चाहता तो हूँ मगर तेरा नहीं हो पाउँगा

मुझसा दुनिया में तलाशे फिर रही हो तो सुनो,
अब मैं ख़ुद भी चाहूं तो वैसा नहीं हो पाउँगा

कूज़ागर मुझको बनाते वक्त इतना ध्यान रख,
मैं बिना मेहबूब के पूरा नहीं हो पाउँगा

बाद माँ के भी मैं प्यारा तो हूँ लाखों का मगर,
अब किसी की आँख का तारा नही हो पाउँगा

उसने जब छोड़ा था मेरी उम्र थी इक्किस बरस,
तबसे इक्किस का हूँ मैं बूढ़ा नही हो पाउँगा