भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मुरझा गए सब फूल / दिनेश श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:25, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दिनेश श्रीवास्तव |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गालियों का बोझ
चायवाले छोकरे के
सिर पर पटक दो.
बिलबिलाते हुए केचुओं को,
जूतों से मसल दो.
सो जाओ,
सारा गुस्सा
बीबी पर उतार कर.

सुबह-शाम
दिन-हफ्ता-साल
बढ़ती बेचैनी,
मुठ्ठियों में बढ़ता आक्रोश,
आँखों में भरता धुआँ,
बालों में बढ़ती सफेदी,
नियति, नियति, नियति
पीढ़ी दर पीढ़ी,
दर पीढ़ी.

कुछ कर गुजरने की
तमन्ना थी मुठ्ठी में- यहाँ आते समय
हताशा में हाथ फैलाओगे
जब तुम जाओगे.