भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अरदास / प्रहलादराय पारीक

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:57, 10 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रहलादराय पारीक |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारै, च्यार साल री झोटड़ी,
लागी कोनी आस।
माऊ जा‘र करी,
भौमियै जी रै,
अरदास।
हे म्हाराज छाछ री
नारळी सर करज्यो।
खोलड़ी पाडकी ही ल्यावै,
इस्या जोग करज्यो।
थारै कड़ाही कर स्यूं।
बां रै बिदेसी नस्ल री,
कुतड़ी खातर,
बिदेसी नस्ल रो कुत्तो,
घरां ल्यार बांध्यो,
भौमियै जी रै
नारेळ चाढ्यो
अरदास करी,
म्हाराज म्हारली कुत्तड़ी
कुकरड़ी ना ल्यावै।