भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

अश्आर / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:40, 29 नवम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में ख़ुद्दारी[1]
अभी बेवा[2]की ग़ैरत[3]से महाजन हार जाता है
                                     **
मेरा ख़ुलूस[4]तो पूरब[5]के गाँव जैसा है
सुलूक[6]दुनिया का सौतेली माँओं जैसा है
                                     **
मालूम नहीं कैसी ज़रूरत निकल आई
सर खोले हुए घर से शराफ़त निकल आई
                                     **
वो जा रहा है घर से जनाज़ा [7]बुज़ुर्ग का
आँगन में इक दरख़्त[8]पुराना नहीं रहा
                                     **

शब्दार्थ
  1. आत्म-सम्मान
  2. विधवा
  3. सम्मान
  4. प्रेम
  5. पूर्व
  6. व्यवहार
  7. शव यात्रा
  8. वृक्ष