भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

झूमै गेहुंमा / नरेश पाण्डेय 'चकोर'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:25, 14 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नरेश पाण्डेय 'चकोर' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गेहुँमा के बाल झूमेॅ बहेॅ हवा पछिया,
खनाखन डांट करेॅ खचाखच कचिया ।

काटी केॅ गेहुँमा आरो बान्ही केॅ बोझोॅ,
सभे गोरिया होलै खलिहानी दिस सोझोॅ
भाँती नाँकी फूलेॅ पचकेॅ सब के छतिया ।

उतारी देॅ हो मालिक आजकोॅ सब दीनी
बेची केेॅ गेहुँमा लानबोॅ नोेॅन-तेल कीनी
हुनका साथें पिछली बेरां जैबोॅ हम्में हटिया ।

वहाँ कीनी लेबोॅ हम्में चार पैसा के पीनी
बीड़ी आरु खैनी कीनी लेतात हिन्हीं ।
मेला जाय लेॅ किनबोॅ छीटी के सड़िया ।

बच्चा-बुतरू लेॅ आनबोॅ गोल-गोल लडुआ
तरकारी रीन्है लेॅ लानबोॅ तेल करुआ
थोड़ेॅ रस्सी लानबोॅ घोरै लेॅ खटिया ।

धान के बाद गेहुँमा, काटबै फिरु मकइया
एन्हैं केॅ बिताबै छियेॅ सौंसे समइया
हैस्सोॅ तोहें बाबू छोड़ोॅ हमरोॅ बतिया ।
गेहुँमा के बाल झूमेॅ बहेॅ हवा पछिया ।।