भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

क्या बात है कि बात ही दिल की अदा न हो / राज नारायन 'राज़'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:11, 14 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज नारायन 'राज़' |संग्रह= }} {{KKCatGhazal‎}}...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या बात है कि बात ही दिल की अदा न हो
मतलब का मेरे जैसे कोई क़ाफ़िया न हो

गुल-दान में सजा के हैं हम लोग कितने ख़ुश
वो शाख़ एक फूल भी जिस पर नया न हो

हर लम्हा वक़्त का है बस इक ग़ुँचा-ए-बख़ील
मुट्ठी जो अपनी बंद कभी खोलता न हो

अब लोग अपने आप को पहचानते नहीं
पेश-ए-निगाह जैसे कोई आईना न हो

वहशी हवा की रूह थी दीवार ओ दर में रात
जंगल की सम्त कोई दरीचा खुला न हो