भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आपका समय / नवनीत पाण्डे

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:04, 27 सितम्बर 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपका समय षुरू होता है अब-
अब यानी- एक उत्तर
अब यानी- एक समय
समय जो शुरू हुआ है अब
नहीं जिस में कहीं भी
एक बीता हुआ पल
बीती रही उम्र, स्मृतियां
सब- कुछ अबः
अब यानी एक नई दुनिया
अब यानी एक नया जन्म
अब यानी एक नई चकाचौंध
अब यानी एक नई कौंध
अब यानी एक नया तिलिस्म
एक नया धमाका
एक नया डॉन
एक नया अभियान
एक नया युद्ध
एक नया मौन
मौन अर्थात् एक उत्तरविहीन प्रष्न
मौन अर्थात् एक प्रष्नविहीन उत्तर
जिस में शुरू होता है एक नया समय
एक नए ‘आप’ के लिए
अनंत समय
अनंत अब
और अनंत ‘आप’