भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जीवन की चाबी / शमशाद इलाही अंसारी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:23, 17 अक्टूबर 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शमशाद इलाही अंसारी |संग्रह= }} [[Category: ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जीवन रेखा का एक छोर
जन्म
और दूसरा छोर
मृत्यु
दोनों सिरों के बीच,
ज़िंदगी का
पैण्डुलम डोलता है
जिसे हम
धर्म, राष्ट्र, भाषा, जाति और संस्कृति
के नाम की
चाबी घुमा धुमा कर
गति देते..
हज़ारों साल पुरानी इस चाबी में
जंग लगा है.
अब जीवन भी
रोगग्रस्त है.
क्या कोई
इस चाबी को
बदलेगा??