भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

रोज़ की बात / दिनेश श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:02, 13 अक्टूबर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दिनेश श्रीवास्तव |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपने पढ़ा ही होगा कि
सारे देश में शान्ति है,
कहीं कोई कष्ट नहीं
न ही कोई भ्रान्ति है.
बड़ी बड़ी आंधियां
बड़ी से बड़ी बाढ़ें
बस चन्द आदमियों को
चपेटती हैं.
दंगे होते हैं,
गोलियाँ चलती हैं,
गाड़ियाँ उलटती हैं,
और कोई मरता नहीं,

बस बस्तियां उजड़ती जाती हैं.
और फुटपाथों पर भीड़
बढ़ती जाती है.
और ये अखबार-
ये अखबार बनते जाते हैं,
फुटपाथों पर बिछावन.

(प्रकाशित, लोक-बोध, कलकत्ता, दिसंबर १९८२)