भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

धोखो / सुरेन्द्र डी सोनी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:44, 12 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुरेन्द्र डी सोनी |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं
खुद नैं
बीं रूप में
कणा ही कबूल करूं नीं
जीं रूप में
म्हैं हूं -

ईं खातर ही
इण भोडै नैं
जको टोटल ही धोळो हो रैयो है
हफ्तै री हफ्तै
करूं काळो टाळ