भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पूजा / गीता सामौर

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:56, 23 जनवरी 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीता सामौर |संग्रह= मंडाण / नीरज द...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूजा रै मिस
गई तो ही थनैं मांगण नै
पण कैड़ो’क ओ संजोग
कै अरदास करती वेळा
खुद नैं ई चढाय’र आयगी....।