भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कौन अपनाएगा हमारा दिल / गौरव त्रिवेदी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:31, 10 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गौरव त्रिवेदी |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन अपनाएगा हमारा दिल
दर्द से टूटता बिचारा दिल,

तेरे दिल से नहीं मिलन मुमकिन,
दिल मेरा रह गया कुंवारा दिल

इश्क़ करने का बस ये हासिल है,
हिज्र की रात और ये हारा दिल,

नाम इसको ग़ज़ल दिया सबने,
हमने कागज़ पे था उतारा दिल

मरने वाला था एक सदमे में
हमने फिर जोर से पुकारा "दिल"