भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आइस क्रीम वाला / सरोजिनी कुलश्रेष्ठ

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:53, 11 अप्रैल 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरोजिनी कुलश्रेष्ठ |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ले लो आइस-क्रीम कह रहा।
देखो आ चला रहा पथ पर॥
कड़ी दोपहरी धरती तपती।
गरम गरम झोंके लू चलती॥
वस्त्र भीगकर तन से चिपके।
हुआ पसीने से ऐसा तर॥
देखो चला...
गाड़ी बन्द ढुलकती आती।
इसमें उसके श्रम की ढाती॥
शीतलता है साथ-साथ है तर॥
नहीं कंठ भी करता है तर॥
देखो चला...
ठंडक तो औरों के हित है।
गरमी में ही उसका हित है।
यही जीविका इसकी भाई।
इस पर इसका जीवन निर्भर॥
देखो चला...
लोग घरों में पड़े सो रहे।
सुख सपनों में पड़े खो रहे॥
लेकिन वह आवाज लगाता।
चलता ही जाता है पथ पर॥
देखो चला...