भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चाल भतूळा रेत रमां! : अेक / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:10, 12 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राजूराम बिजारणियां |अनुवादक= |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुंवारता बांकड़ली मूंछ्यां
फेरता मूंडै हाथ
भरता मनड़ै मोद
उठायां सिर गुमैज सूं
धरतां लाम्बा-लाम्बा डिग

देख..
धोरै ढळतै
छेल भंवर भतूळियै नै
खाथी-खाथी
पग उठावती
बा बळखावती
जुवान रेत.!

करती सावचेत टोकी नै
लुकगी सरड़ दाणीं
मा पड़ाल री ओट में।