भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

समय और हम / ईगर सीद / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:29, 23 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ईगर सीद |अनुवादक=अनिल जनविजय |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर आप राह में नहीं हैं
तो समय उलटा चलने लगता है ।
आपको खड़े रहने की ज़रूरत नहीं
और मुझे चलते रहने की कोई सूरत नहीं ।

2018

मूल रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी में पढ़िए
                 Игорь Сид

Если вы не в пути,
то время движется вспять.
Вам не стоит идти.
А мне не идёт стоять.

2018