भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'ग़ालिब'-ओ-'यगाना' से लोग भी थे जब तन्हा / हबीब जालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'ग़ालिब'-ओ-'यगाना' से लोग भी थे जब तन्हा
हम से तय न होगी क्या मँज़िल-ए-अदब तन्हा

फ़िक्र-ए-अँजुमन किस को कैसी अँजुमन प्यारे
अपना अपना ग़म सब का सोचिए तो सब तन्हा

सुन रखो ज़माने की कल ज़बान पर होगी
हम जो बात करते हैं आज ज़ेर-ए-लब तन्हा

अपनी रहनुमाई में की है ज़िन्दगी हम ने
साथ कौन था पहले हो गए जो अब तन्हा

मेहर-ओ-माह की सूरत मुस्कुरा के गुज़रे हैं
ख़ाक-दान-ए-तीरा से हम भी रोज़-ओ-शब तन्हा

कितने लोग आ बैठे पास मेहरबाँ हो कर
हम ने ख़ुद को पाया है थोड़ी देर जब तन्हा

याद भी है साथ उन की और ग़म-ए-ज़माना भी
ज़िन्दगी में ऐ 'जालिब' हम हुए हैं कब तन्हा