भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'मीर'-ओ-'ग़ालिब' बने 'यगाना' बने / हबीब जालिब

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'मीर'-ओ-'ग़ालिब' बने 'यगाना' बने
आदमी ऐ ख़ुदा ख़ुदा न बने

मौत की दस्तरस में कबसे हैं
ज़िन्दगी का कोई बहाना बने

अपना शायद यही था जुर्म ऐ दोस्त
बा-वफ़ा बन के बे-वफ़ा न बने

हमपे इक ए'तिराज़ ये भी है
बे-नवा हो के बे-नवा न बने

ये भी अपना क़ुसूर क्या कम है
किसी क़ातिल के हम-नवा न बने

क्या गिला सँग-दिल ज़माने का
आश्ना ही जब आश्ना न बने

छोड़ कर उस गली को ऐ 'जालिब'
इक हक़ीक़त से हम फ़साना बने