भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'यामा' कवि से / शमशेर बहादुर सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छू नहीं सकती
साँस जिसे
वर्ण गीत जिसे
किंतु मर्म।

नींद का संगीत
गाकर
विसुध खग।

जुगनुओं के सूर्य
अनगिन सूक्ष्मर
तुहिनकण की स्त्ब्ध रजनी में।

विशाल आह्वान
बहा आता लिये
एक गौरव-गान।

हृदय पर मधुमास के
टुकड़े
फूल के, बिखरे।

कुछ नहीं लाया
प्रेम,
अश्रु अश्रु अश्रु
पुन:
पुन:

कब न लजी मैं
किंतु आज
ओ प्रतीक्षे!