भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

'शोक का सागर ज्यों लहराया / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


शोक का सागर ज्यों लहराया
युगल कुमारों ने जब फिर वन-गमन-प्रसंग सुनाया

सुनकर वृद्ध पिता की वाणी
कातर, दीन, अश्रु में सानी
'कुल में दाग लगा मत रानी
यह क्या तुझको भाया!

'राज भरत को ही दे दूँगा
पर मैं राम बिना न जिऊँगा
बोले प्रभु--'मैं सह न सहूँगा
शेष रहे अनगाया!

'अब आगे की कथा सुनायें
केवट के विनोद दुहरायें
बंधु भरत से भेंट करायें
दुख में सुख हो छाया'

शोक का सागर ज्यों लहराया
युगल कुमारों ने जब फिर वन-गमन-प्रसंग सुनाया