भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

'सौदा' से कहा मैंने, क्यों तुझसे न कहते थे / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

'सौदा' से कहा मैंने, क्यों तुझसे न कहते थे
लब इश्क़ के साग़र से ज़ालिम न कर आलूदा1

अब देख तो हाल अपना टुक2 रहम की नज़रों से
नाहक़ की बला में तू है किस क़दर आलूदा

आँखें तिरी रखती हैं दामानो-गरीबाँ3 को
ख़ूँनाब4 के क़तरों से से शामो-सहर5 आलूदा

जिस सिम्त6 निगह कीजे ऊधर नज़र आता है
लोहू से तिरे सर की दीवारो-दर आलूदा

जब मैं तुझे समझाकर रो-रो इन्हें धोता हूँ
कहता है न होवेगा बारे-दिगर7 आलूदा

लेकिन ये नसीहत है बेफ़ायदा, क्या हासिल
ये है कि उधर धोया, वो हैं उधर आलूदा

इस बात में ऐ नादाँ, बतला तो मज़ा क्या है
पाँवों से जो तू ख़ूँ में है ता-ब-सर8 आलूदा

जिस वक़्त ग़रज़ उनने ये बात सुनी मुझसे
इतना ही कहा भरकर आहे-असर-आलूदा9

लज़्ज़त को हलाहल की क्या उनको बताऊँ मैं
है कामो-दहन10 जिनका शहदो-शकर-आलूदा

शब्दार्थ
1. दूषित, 2. ज़रा, 3. दामन और गरबान, 4. रक्त, 5. सुबह-शाम, 6. तरफ़, 7. दूसरी बार, 8. सर तक, 9. असर रखने वाली आह, 10. होंठ और मुँह