भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अँखिया भइल लाले लाल / भोजपुरी होली गीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

अँखिया भइल लाले लाल
इचिएक सूते द बलमुआ ।

अँखिया लाले लाल,
अरे, तनिएक सूते द बलमुआ

राति भरि संइयाँ बइठल बीते
होत भिनुसारे मलब गुलाल

भर फागुन तोहे सूतहूँ ना देबि
चइत सूतिह दिन राति ।

कर्मेन्दु शिशिर के संग्रह से